जानिए टेरो रीडर एस्ट्रो भूमि से राशि के अनुसार कौन सा रुद्राक्ष दिलाएगा सफलता

एक बात का विशेष ध्यान रखे, रुद्राक्ष का शुद्ध होना व राशी के हिसाब से सही रुद्राक्ष धारण करना बहुत जरूरी है,इस हेतु हमे संपर्क करे। एस्ट्रो भूमि के द्वारा आपकी राशि के हिसाब से आपको सही रुद्राक्ष धारण कराया जायगा।
+918819999676

हिन्दू धर्म में रुद्राक्ष को बहुत ही पवित्र माना गया है। रुद्राक्ष दो शब्द रूद्र और अक्ष से मिलकर बना है ऐसी मान्यता है कि शिव के आंसुओं से ही इसके पेड़ कि उत्पत्ति हुई थी। कहा जाता है कि यदि रुद्राक्ष राशि के अनुसार धारण किया जाए तो यह जीवन में बहुत से परिवर्तन लाता है जिसकी हमने कल्पना भी नहीं की होगी। राशि अनुसार रुद्राक्ष धारण करने से व्यक्ति को बहुत से शुभ फल प्राप्त होते है। रुद्राक्ष को राशि, ग्रह और नक्षत्र के अनुसार धारण करने से उसकी फलों में कई गुणा वृद्धि हो जाती है। ग्रह दोषों तथा अन्य समस्याओं से मुक्ति हेतु रुद्राक्ष बहुत उपयोगी होता है। कुंडली के अनुरूप सही और दोषमुक्त रुद्राक्ष धारण करना अमृत के समान होता है।

तो आइये जानते हैं किस राशी के लिए कौनसा रुद्राक्ष सही रहता हैं

कितने तरह के होते है रुद्राक्ष

रुद्राक्ष को उसके मुख के आधार पर अलग अलग नाम दिए गये है | यह मुख संख्या में एक से लेकर चौदह तक होते है जिनके नाम एक मुखी रुद्राक्ष …. चौदह मुखी रुद्राक्ष है |

किस मुखी रुद्राक्ष का क्या महत्व

* एक मुखी रुद्राक्ष सबसे चमत्कारी माना जाता है जो सर्व सुख देने की शक्ति रखता है ।

* दो मुखी शिव पार्वती रूप है, जो इच्छित फल, मानसिक शांति देता है।

* तीन मुखवाला रुद्राक्ष त्रिदेवरूप है जो विद्या और सिद्धियाँ देता है।

* चार मुखी ब्रह्मरूप है, जो चतुर्विध फल देता है।

* पंचमुखी रुद्राक्ष पंचमुख शिवरूप है, जो सब पापों को नष्ट करता है।

* छः मुखी रुद्राक्ष भगवान कार्तिक स्वामी का साक्षात् रूप है माना गया है | यह बुराई का नाश कर ऋद्धि – सिद्धि देने वाला है ।

* सात मुखी अनन्त नाम से जाना जाता है , यह दरिद्रता दूर कर अपार धन दिलाने में सहायक है ।

* आठ मुखी रुद्राक्ष आठ दिशाओं और आठ सिद्धियों का नेतृत्व करता है। इसे अष्‍टमूर्ति भैरवरूप माना गया है | यह धारण करने से शत्रु परास्त होते है और मनुष्य अभय हो जाता है |

* नौ मुखी भैरव वह कपिल स्वरूप है ।, जो मनुष्य को सर्वेश्वर बनाकर शिव कृपा दिलवाता है ।

* दशमुखी विष्णु रूप है। यह समस्त कामनाओ को पूर्ण करता है |

* ग्यारह मुखी एकादश रुद्ररूप है, जो जीत दिलवाता है |

* बारह मुखी द्वादश आदित्य रूप है,यह आपकी कीर्ति यश को जगत में सूर्य की तरह बढाता है |

* तेरह मुखी रुद्राक्ष विश्वरूप है, जो सौभाग्य मंगल देता हैं।

* चौदह मुखी परम शिव रूप है, जो धारण करने से शांति देता है और पापो से मुक्ति करवाता है ।

Contact us for all type of astrology services and products
+919111167837
astrobhoomi@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>